गुरुवार, 6 जनवरी 2011


आत्मबली मरते न कभी इस

कारण आज लौ जिन्दी है हिन्दी ।

डोंगरी औ' बंगला, उड़िया औ'

नेपाली, मराठी, औ' सिन्धी है हिन्दी ।

कालिय नाग जहाँ हुआ मर्दित

पावन नीर कलिन्दी है हिन्दी ।

भारत माता इसे नित साजत

भाल पे राजत बिन्दी है हिन्दी ।

3 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर शब्द चयन सुदर भावनाएं.सराहनीय प्रस्तुति. शब्द पुष्टिकरण हटा दें तो आसानी होगी. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. भारत माता इसे नित साजत

    भाल पे राजत बिन्दी है हिन्दी
    कितना सुन्दर कहा है . ... अति सुन्दर .

    उत्तर देंहटाएं