सोमवार, 6 दिसंबर 2010


१८

झाड़ पहाड़ से रोके रुके नहीं भागीरथी की रवानी है हिन्दी ।

जो हर नैन में आके बसे वह कुंदन रूप जवानी है हिन्दी ।

शुम्भ - निशुम्भ बिगाड़ न पाये वही रण बिच भवानी है हिन्दी ।

सृष्टि के आदि से है मिलता इतिहास कथा वो कहानी है हिन्दी ।

१९

बाघ जहाँ मृग शावक के संग पानी पिये वह कूल है हिन्दी ।

जाकी सुगन्ध न रोके रुकी वह सृष्टि का पावन फुल है हिन्दी ।

भाषा अनेक समाज के बीच परन्तु सभी की ये मूल है हिन्दी ।

पाथर जीव बना जिससे वह पावँ है पावँ की धूल है हिन्दी ।

3 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेरणादायक सकारात्मक और लाजवाब लेखन

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर।
    मेरी सलाह है कि कई दिन में कई छंद एक साथ लिखने के बजाय रोज मात्र एक छंद पोस्ट करें।

    उत्तर देंहटाएं