शुक्रवार, 13 जुलाई 2012

आप करें विश्वास भले नहीं 
संजय की यह दृष्टि है हिन्दी .
सावन माह के मंद समीर में 
झीनी फुहार सी वृष्टि  है हिन्दी 
लोग भने  झुठ सांच बराबर
जाके लिए वह हृष्टि  है हिन्दी .
विष्णु की माया इसे समझो ,
समझो करतार की सृष्टि है हिन्दी ..

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें